Famous Tulsidas Ke Dohe In Hindi | ” 20 + तुलसी दास के दोहे “

Hello Readers!!! You are highly welcomed on our website to read about Tulsidas Ke Dohe In Hindi / तुलसी दास के दोहे हिंदी में on our informational website Famous Hindi Poems.

Famous Hindi Poems सूचना वेबसाइट पर हिंदी में Tulsidas के बारे में पढ़ने के लिए हमारी वेबसाइट पर आपका बहुत स्वागत है। नमस्कार दोस्तों, मेरा नाम Altaf Hassan और आज की पोस्ट में, आप तुलसी दास के दोहे hindi में पढ़ेंगे ।

तुलसीदास को हिंदी, भारतीय और विश्व साहित्य के सबसे महान कवियों में से एक माना जाता है। Tulsidas Ke Dohe एक कवि, भक्त, तथा समाज सुधारक तीनों रूपों में एक साथ प्रसिद्ध हैं। वह भगवान राम की भक्ति के लिए प्रसिद्ध हैं और महान महाकाव्य, रामचरितमानस के लेखक हैं।

Tulsidas के जीवन से जुड़ी कुछ महत्वपूर्ण बातें।

Tulsidas / तुलसी दास  (Born 1497—Died 1623) उनका जन्म स्थान विवादास्पद है। कुछ लोग मानते हैं कि उनका जन्म कासगंज (एटा) उत्तर प्रदेश के सोरन शुक्राक्ष में हुआ था। कुछ विद्वानों का मानना है कि उनका जन्म राजापुर जिले बांदा (चित्रकूट) में हुआ था। जबकि कुछ विद्वान तुलसीदास की जन्मस्थली राजापुर पर विचार करने के समर्थन में हैं। तुलसीदास ने बारह पुस्तकें लिखीं। सबसे प्रसिद्ध पुस्तक उनका रामायण है।

उन्होंने यह पुस्तक हनुमान के निर्देशन में लिखी थी। इस रामायण को उत्तर भारत के प्रत्येक हिंदू घर में बड़े प्रेम से पढ़ा और पूजा जाता है। यह एक प्रेरणादायक पुस्तक है। हर साल, भारत में लोग कई तरह से तुलसीदास जयंती मनाते हैं, उनमें से हनुमान और राम मंदिरों में श्री रामचरितमानस के अनुच्छेद पढ़ी जाती हैं। इसके अलावा वे तुलसीदास की शिक्षा के आधार पर विभिन्न सम्मेलन और सेमिनार आयोजित करते हैं।

और कई स्थानों पर इस दिन ब्राह्मणों को भोजन कराने की रस्म निभाई जाती है। Tulsidas Ke Dohe ने समय -समय पर देश के लोगों को नई ऊर्जा और विचार का अनुभूति कराया है। इन विचारो की दूरदर्शिता और ऊर्जावान भाव आज भी लोगों को एक नई राह दिखाने का क्षमता रखते हैं।

Famous ” Tulsidas Ke Dohe” | ” तुलसी दास की दोहे ”

तोह आइए और जानते हैं कि तुलसीदास द्वारा रचित दोहे ( Tulsidas ke Dohe ) व्याख्या के साथ और उनकी शिक्षाओं को अपने जीवन में उतारने का कोशिश करते हैं।

Tulsidas Ke Dohe

” आवत ही हरषै नहीं नैनन नहीं सनेह।
तुलसी तहां न जाइये कंचन बरसे मेह। “

Tulsidas Ke Dohe

व्याख्या – ऐसे समूह में जहां लोग आपसे खुश नहीं हैं और लोगों की नजरों में आपके लिए कोई प्यार या स्नेह नहीं है, तो हमें कभी भी ऐसी जगह या समूह में नहीं जाना चाहिए, भले ही वह सोने की बारिश हो रही हो।

” मुखिया मुखु सो चाहिऐ खान पान कहुँ एक।
पालइ पोषइ सकल अंग तुलसी सहित बिबेक।। “

अर्थ सिर एक मुंह की तरह होना चाहिए, जो खाने और पीने के लिए अकेला होता है लेकिन सभी अंगों को विवेकपूर्ण तरीके से बनाए रखता है। अर्थात, जो व्यक्ति कहीं भी समूह का नेतृत्व कर रहा है, उसे यह भी चिंता करनी चाहिए कि उसके सभी साथियों की उचित पालन पोषण होनी चाहिए। यह गुण किसी व्यक्ति को एक व्यक्तित्व में बदल देता है।

” लसी पावस के समय, धरी कोकिलन मौन।
अब तो दादुर बोलिहं, हमें पूछिह कौन।। “

व्याख्या – बारिश के मौसम में, मेंढकों के टर्राने की आवाज इतनी अधिक हो जाती है कि कोयल की मीठी कोयल उस शोर में दब जाती है। इसलिए कोयल मौन धारण करती है। अर्थात्, जब मेंढक जैसा चालाक और कपटी लोगों का बोलबाला होता है, तो समझदार व्यक्ति चुप रहता है और व्यर्थ में अपनी ऊर्जा बर्बाद नहीं करता है।

” तुलसी नर का क्या बड़ा, समय बड़ा बलवान।
भीलां लूटी गोपियाँ, वही अर्जुन वही बाण।। “

अर्थ Tulsidas जी कहते हैं कि समय बहुत बलवान होता है, वह समय है जो व्यक्ति को छोटा या बड़ा बनाता है। जैसे एक बार जब महान धनुर्धर अर्जुन का समय खराब था, तो वह भीलों के हमले से गोपियों की रक्षा नहीं कर सके।

” बिना तेज के पुरुष की, अवशि अवज्ञा होय ।
आगि बुझे ज्यों राख की, आप छुवै सब कोय ।। “

व्याख्या – कोई भी व्यक्ति उस व्यक्ति को महत्व नहीं देता है जो तेज है, कोई भी उसकी आज्ञा का पालन नहीं करता है। ठीक वैसे ही, जब राख की आग बुझ जाती है, तो हर कोई उसे छूने लगता है।

” दया धर्म का मूल है, पाप मूल अभिमान।
तुलसी दया न छोडिये, जब तक घट में प्राण।। “

अर्थ Tulsidas के इस दोहे का अर्थ है कि दया धर्म की भावना से निकलती है लेकिन अहंकार केवल पाप को जन्म देता है। इसलिए जब तक हमारे शरीर में जीवन है, हमें अपनी करुणा नहीं छोड़नी चाहिए।

Tulsidas Ke Dohe

” सुख हरसहिं जड़ दुख विलखाहीं, दोउ सम धीर धरहिं मन माहीं
धीरज धरहुं विवेक विचारी, छाड़ि सोच सकल हितकारी “

Tulsidas Ke Dohe

व्याख्या – एक मूर्ख व्यक्ति दु: ख के समय में रोता है और खुशी के समय बहुत खुश हो जाता है, जबकि एक मरीज दोनों समय एक ही होता है, वह सबसे कठिन समय में अपना धैर्य नहीं खोता है और कठिन समय का सामना करता है।

” तुलसी साथी विपत्ति के, विद्या विनय विवेक।
साहस सुकृति सुसत्यव्रत, राम भरोसे एक। “

अर्थ Tulsidas जी कहते हैं कि ये 7 गुण आपको किसी भी विपत्ति से बचाएंगे – 1: विद्या 2: विनय, 3: विवेक, 4: साहस, 5: आपके अच्छे कर्म, 6: अखंडता, और 7: ईश्वर में आपका विश्वास।

” तुलसी मीठे बचन ते सुख उपजत चहुँ ओर ।
बसीकरन इक मंत्र है परिहरू बचन कठोर ।। “

व्याख्या – मीठे शब्द हर जगह खुशी और खुशी फैलाते हैं, सुखदायक भावनाएं फैलती हैं। दूसरों को वश में करने के लिए मीठे शब्द ही एकमात्र मंत्र हैं। इसलिए, मनुष्य को कठोर शब्द का त्याग करना चाहिए और मीठे शब्द बोलने चाहिए।

” सचिव बैद गुरु तीनि जौं प्रिय बोलहिं भय आस।
राज धर्म तन तीनि कर होइ बेगिहीं नास।। “

अर्थ मंत्री, वैद्य, और गुरु – यदि ये तीनों भय या लाभ की आशा से (हित की बात नहीं) आशा के साथ बोलते हैं तो (क्रमशः) अवस्था, शरीर और धर्म – ये तीनों शीघ्र ही नष्ट हो जाते हैं।

” तुलसी इस संसार में, भांति भांति के लोग।
सबसे हस मिल बोलिए, नदी नाव संजोग।। “

व्याख्या – इस दुनिया में, विभिन्न प्रकार के लोग हैं, अर्थात्, सभी प्रकार के स्वभाव और व्यवहार के लोग, आप सभी से मिलते हैं और अच्छी तरह से बात करते हैं। जिस तरह नाव नदी से दोस्ती करती है और आसानी से उसे पार कर जाती है, उसी तरह अपने अच्छे व्यवहार से आप इस भव सागर को भी पार कर जाएंगे।

” काम क्रोध मद लोभ की जौ लौं मन में खान ।
तौ लौं पण्डित मूरखौं तुलसी एक समान ।। “

अर्थ जब तक व्यक्ति का मन काम भावना, क्रोध, अहंकार और लालच से भरा होता है। तब तक ज्ञानी और मूर्ख व्यक्ति में कोई अंतर नहीं होता है, दोनों एक ही होते हैं।

” आगें कह मृदु वचन बनाई। पाछे अनहित मन कुटिलाई,
जाकर चित अहिगत सम भाई, अस कुमित्र परिहरेहि भलाई, “

व्याख्या – Tulsidas जी कहते हैं कि ऐसा मित्र जो आपके सामने बनने के बाद मीठा बोलता है और मन ही मन आपके प्रति बुराई का भाव रखता है, जिसका मन सांप की चाल की तरह टेढ़ा है, ऐसे बुरे मित्र का त्याग करना ही अच्छा है ।

“ सुर समर करनी करहीं कहि न जनावहिं आपु,
विद्यमान रन पाइ रिपु कायर कथहिं प्रतापु । ”

अर्थ शूरवीर युद्ध में शूरवीरों का काम करते हैं, कहते हैं कि वे खुद को नहीं मारते। शत्रु को युद्ध में उपस्थित होने पर, कायर केवल अपनी ही महिमा गाता है।

Tulsidas Inspirational Dohe

Tulsidas Ke Dohe

” मार खोज लै सौंह करि, करि मत लाज न ग्रास।
मुए नीच ते मीच बिनु, जे इन के बिस्वास।। “

Tulsidas Ke Dohe

व्याख्या – वे निर्दोष लोग पाखंडियों और कपटियों के शिकार होते हैं। ऐसे पाखंडी लोग शपथ लेकर दोस्त बन जाते हैं और फिर मौका मिलते ही प्रहार करते हैं। ऐसे लोगों को न भगवान से डर है और न ही समाज से, इसलिए इनसे बचना चाहिए।

” तुलसी साथी विपत्ति के विद्या विनय विवेक।
साहस सुकृति सुसत्यव्रत राम भरोसे एक। “

अर्थ इस दोहे में तुलसीदास जी कहते हैं, किसी भी व्यक्ति को विपत्ति के समय घबराना नहीं चाहिए। बल्कि ऐसी परिस्थितियों में, व्यक्ति को हमेशा अच्छे काम, सही विवेक और बुद्धिमत्ता के साथ काम करना चाहिए। क्योंकि कठिन समय में साहस और अच्छे कर्म व्यक्ति का समर्थन करते हैं।

” नामु राम को कलपतरु कलि कल्यान निवासु।
जो सिमरत भयो भांग ते तुलसी तुलसीदास। “

व्याख्या – राम नाम लेने से मन हमेशा साफ रहता है। इसलिए कहा जाता है कि कोई भी काम करने से पहले राम का नाम लें। यही कारण है कि तुलसीदास जी भी हर कार्य को शुरू करने से पहले श्री राम का नाम लेते थे और खुद को तुलसी के पौधे के समान पवित्र मानने लगे थे।

” कामिहि नारि पिआरि जिमि लोभिहि प्रिय जिमि दाम।
तिमि रघुनाथ निरंतर प्रिय लागहु मोहि राम॥ “

अर्थ जिस तरह काम के तहत एक व्यक्ति एक महिला से प्यार करता है और एक लालची व्यक्ति को पैसा पसंद है, उसी तरह आप रघुनाथ, हे राम, आप हमेशा मुझे प्यार करते हैं।

” तुलसी भरोसे राम के, निर्भय हो के सोए।
अनहोनी होनी नही, होनी हो सो होए। “

व्याख्या – भगवान पर भरोसा रखें और बिना किसी डर के शांति से सोएं। कुछ भी अनावश्यक नहीं होगा, और अगर कोई नकारात्मक घटना होती है, तो यह वैसे ही होयेगा, इसलिए चिंता करना और बेकार की चिंता करना छोड़ दें।

” तुलसी जे कीरति चहहिं, पर की कीरति खोइ।
तिनके मुंह मसि लागहैं, मिटिहि न मरिहै धोइ।। “

अर्थ दूसरों को बदनाम करने के द्वारा खुद को बदनाम करने का विचार, यानी निन्दा, मूर्खतापूर्ण मूर्खता है क्योंकि जो व्यक्ति दूसरों की निंदा करता है उसके मुंह में कालिख होती है जिसे किसी भी तरह से धोया नहीं जा सकता है जो छुटकारा पाने के लिए असंभव है।

Tulsidas Ke Dohe

“तुलसी किएं कुंसग थिति, होहिं दाहिने बाम ।
कहि सुनि सुकुचिअ सूम खल, रत हरि संकंर नाम ।।
बसि कुसंग चाह सुजनता, ताकी आस निरास ।
तीरथहू को नाम भो, गया मगह के पास ।। “

Tulsidas Ke Dohe

व्याख्या – बुरे लोगों की संगति में रहने से अच्छे लोग भी बदनाम हो जाते हैं। वे अपनी प्रतिष्ठा खो देते हैं और छोटे हो जाते हैं। जैसे किसी व्यक्ति का नाम किसी देवता के नाम पर रखा जा सकता है, लेकिन बुरी संगति के कारण उन्हें सम्मान नहीं मिलता है। जब कोई व्यक्ति बुरी संगत में रहने के बावजूद अपने काम में सफल होना चाहता है और सम्मान प्राप्त करना चाहता है, तो उसकी इच्छा कभी पूरी नहीं होती है। जैसे मगध निकट है, विष्णुपद तीर्थ को इसका नाम “गया” मिला।

” बचपन बेष क्या जानिए, मनमलीन नर नारि,
सूपनखा मृग पूतना, दस मुख प्रमुख विचारि। “

अर्थ किसी भी महिला या पुरुष की भावना को उसके सुंदर कपड़े और मीठे शब्दों से नहीं जाना जा सकता है। क्योंकि सुरपंचक, पूतना, रावण और मारीच पहले सुंदर थे और उनके शब्द मधुर थे, लेकिन उनके पास पाप था और उनकी भावनाएँ बुरी थीं।

” काम क्रोध मद लोभ सब नाथ नरक के पन्थ
सब परिहरि रघुवीरहि भजहु भजहि जेहि संत, “

व्याख्या – तुलसी दास जी कहते हैं कि काम, क्रोध, लोभ सभी नरक के रास्ते हैं, इसलिए हमें उन्हें छोड़ देना चाहिए और भगवान से प्रार्थना करना चाहिए जैसे कि संत करते हैं।

” सो तनु धरि हरि भजहिं न जे नर, होहिं बिषय रत मंद मंद तर।
काँच किरिच बदलें ते लेहीं, कर ते डारि परस मनि देहीं।। “

अर्थ – जो लोग मानव शरीर पाने के बाद भी भगवान राम की पूजा नहीं करते हैं और बुरी चीजों में खोए रहते हैं। वे उसी व्यक्ति की तरह मूर्खतापूर्ण व्यवहार करते हैं जो पारस मणि को अपने हाथ से फेंक देता है और हाथ में कांच का एक टुकड़ा ले लेता है।

” तुलसी देखि सुबेषु भूलहिं मूढ़ न चतुर नर।
सुंदर केकिहि पेखु बचन सुधा सम असन अहि। “

व्याख्या – इस दोहे को देखने का अर्थ है कि सुंदर रूप देखकर न केवल मूर्ख बल्कि चतुर लोग भी धोखा खा जाते हैं। इसलिए जितना हो सके कपटी लोगों से हमेशा बचें। जैसे कि मोर बहुत सुंदर लगते हैं लेकिन उनका भोजन एक सांप है।

” जे न मित्र दुख होहिं दुखारी। तिन्हहि विलोकत पातक भारी।
निज दुख गिरि सम रज करि जाना। मित्रक दुख रज मेरू समाना। “

अर्थ – जो मित्र के दुख से दुखी नहीं होता है उसे देखने से भी कठोर पाप लगता है। अपने पहाड़ समान दुख को धूल के समान और मित्र के साधारण धूल समान दुख को सुमेरू पर्वत के समान समझना चाहिए।

Tulsidas Ke Dohe अंतिम शब्द।

तो, आज के लिए बस इतना ही। उपरोक्त सभी (Tulsidas Ke Dohe) / तुलसी दास के दोहे पढ़ने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद। हमें खेद है कि इस पोस्ट में हमने सभी तुलसी दास / Tulsidas के दोहे नहीं लिखी।

अगर आपको हमारी पोस्ट अच्छी लगी तो अपने दोस्तों और परिवार के साथ शेयर करें। अगर आप हमारे लिए लिखना चाहते हैं तो हमसे Contact Us Page पर संपर्क करें या नीचे Comment करें। प्रसिद्ध लोगों की प्रसिद्ध कविताएं, दोहे, उद्धरण पढ़ने के लिए, आप हमेशा हमारी website Famous Hindi Poems से जुड़े रहिए ।

Buy Tulsidas Ji Ebooks –

Also, Read

Leave a Comment

Copy link
Powered by Social Snap