Famous Kabir Das Dohe In Hindi | ” 23 + कबीर दास के दोहे “

You are highly welcomed on our website to read about Kabir das In Hindi  / कबीर दास की दोहे हिंदी में on our informational website Famous Hindi Poems.

Famous Hindi Poems सूचना वेबसाइट पर हिंदी में Kabir Das के बारे में पढ़ने के लिए हमारी वेबसाइट पर आपका बहुत स्वागत है। नमस्कार दोस्तों, मेरा नाम Altaf Hassan और आज की पोस्ट में, आप Kabir das Dohe hindi में पढ़ेंगे ।

संत कबीर / Kabir Das Dohe हिंदी साहित्य के ऐसे कवि थे, जिन्होंने अपनी रचनाओं के माध्यम से समाज में फैली कुरीतियों को दूर करने का प्रयास किया। संत कबीरदास ने समाज में फैली बुराइयों और अंधविश्वासों की निंदा की। उन्होंने हिंदुओं और मुसलमानों के मिलन पर प्रकाश डाला।

Kabir Das के जीवन से जुड़ी कुछ महत्वपूर्ण बातें।

Kabir Das / कबीर दास  (Born 1440, Varanasi, Jaunpur, India—Died 1518, Maghar) नीरू और नीमा द्वारा एक मुस्लिम बुनकर परिवार में जन्म लिए था। वह एक रहस्यवादी कवि और संगीतकार थे और हिंदू धर्म के महत्वपूर्ण संतों में से एक थे और मुसलमानों द्वारा एक सूफी के नाम से भी जाने जाते थे । उन्हें हिंदुओं, मुसलमानों और सिखों द्वारा सम्मान दिया जाता है। संत Kabir Das जयंती या जन्मदिन हर साल मई या जून (पूर्णिमा के महीने) की पूर्णिमा को उनके अनुयायियों और प्रेमियों द्वारा बड़े उत्साह के साथ मनाया जाता है।

उन्होंने तथ्यात्मक गुरु की प्रशंसा को प्रतिध्वनित करते हुए सरल और सरल शैली में Kabir Das Dohe की रचना की थी। एक अनपढ़ होने के बाद भी उन्होंने हिंदी में अवधी, ब्रज, और भोजपुरी को मिलाकर अपनी कविताएँ लिखी थीं। कुछ लोगों द्वारा उनका अपमान किया गया था, लेकिन उन्होंने कभी बुरा नहीं लगा।

उन्होंने पाखंड के खिलाफ आवाज उठाई और लोगों में भक्ति के बीज बोए। उनके कविताओं / दोहे ने हमेशा जीवन में प्रगति के रास्ते खोले हैं और समाज को बेहतर बनाने के लिए आदमी को सही ज्ञान दिया है। आइए हम आपको उनकी विशेष दोहे बताते हैं, जो आपके जीवन को हमेशा के लिए सफल बना देंगे।

Famous ” Kabir Das Dohe” | ” कबीर दास की दोहे ”

कबीर दास ने अपने जीवन के अनुभवों से कई कविताएँ को बहुत ही सरल और सरल शैली और आसान भाषा में रचना किया है। जो वाकई अद्भुत है। तो चलिए शुरू करते हैं, और देखते हैं Kabir Das Dohe हिंदी में ।

Kabir Das

” गुरु गोविंद दोउ खड़े, काके लागूं पाँय ।
बलिहारी गुरु आपने, गोविंद दियो मिलाय॥ “

Kabir Das

व्याख्या – कबीर दास जी इस दोहे में कहते हैं कि यदि गुरु और भगवान हमारे सामने एक साथ खड़े हों, तो आप किसके चरण स्पर्श करेंगे? गुरु ने हमें अपने ज्ञान के साथ भगवान से मिलने का रास्ता दिखाया है इसलिए गुरु का सम्मान भगवान के ऊपर है और हमें गुरु के चरण स्पर्श करने चाहिए।

” प्रेम न बड़ी उपजी… , प्रेम न हाट बिकाय |
राजा प्रजा जोही रुचे… , शीश दी ले जाय || “

व्याख्या – इस दोहे का अर्थ है खेत में प्रेम की फसल कोई नहीं काट सकता। कोई भी बाजार में प्यार नहीं खरीद सकता है। वह जो भी प्यार पसंद करता है, वह एक राजा या एक आम आदमी हो सकता है, उसे अपने सिर की पेशकश करनी चाहिए और प्रेमी होने के योग्य होना चाहिए।

” माला फेरत जुग भया, फिरा न मन का फेर,
कर का मनका डार दे, मन का मनका फेर। “

व्याख्या – एक व्यक्ति लंबे समय तक अपने हाथ में मोती की एक माला घुमाता है, लेकिन उसका मूड नहीं बदलता है, उसका मूड शांत नहीं होता है। ऐसे व्यक्ति को कबीर की सलाह है कि मन की माला बदलो या इस हाथ की माला को छोड़ो।

” बड़ा भया तो क्या भया, जैसे पेड़ खजूर ।
पंथी को छाया नहीं फल लागे अति दूर ।। “

व्याख्या – खजूर का पेड़ बेशक बहुत बड़ा होता है, लेकिन न तो यह किसी को छाया देता है और फल भी काफी ऊंचाई पर दिखाई देता है। इसी तरह, यदि आप किसी का भला नहीं कर पा रहे हैं, तो इतने बड़े व्यक्ति होने का कोई लाभ नहीं है।

” कहैं कबीर देय तू, जब लग तेरी देह।
देह खेह होय जायगी, कौन कहेगा देह।। “

व्याख्या – इस दोहे में या सीक हैं कि जब तक यह शरीर सुरक्षित है, तब तक दूसरों को दान देते रहो, दूसरों के लिए अच्छे काम करते रहो। जब यह शरीर राख हो जाएगा तो कोई भी इस सुंदर शरीर के लिए नहीं कहेगा, आपका शरीर एक मृत शरीर बन जाएगा। इसलिए यह अच्छा काम करने का सही समय है।

” मेरा मुझमे कुछ नहीं, जो कुछ है सो तोर।
तेरा तुझको सौंपता, क्या लागे है मोर।।

व्याख्या – इसका मतलब है कि मेरे पास कुछ भी नहीं है, जो कुछ भी है वह तुम्हारा (भगवान का) है। अगर भगवान को सौंप दिया जाता है तो मेरा क्या है? भावना यह है कि एक आदमी हमेशा अपने अहंकार में मेरा करता रहता है, जबकि उसके पास भगवान के अलावा कुछ नहीं है।

Kabir Das

” निंदक नियेरे राखिये, आँगन कुटी छावायें ।
बिन पानी साबुन बिना, निर्मल करे सुहाए । “

Kabir Das

व्याख्या – जो लोग हमेशा दूसरों की बुराई करते हैं, उन्हें हमेशा अपने साथ रखना चाहिए, क्योंकि अगर ऐसे लोग आपके साथ रहेंगे तो आपकी बुराइयाँ आपको बताती रहेंगी और आप आसानी से अपनी गलतियों को सुधार सकते हैं। इसीलिए कबीर ने कहा है कि निंदक इंसान लोगो का सभाओ अच्छा बनाते हैं।

” यह तन विष की बेलरी, गुरु अमृत की खान |
शीश दियो जो गुरु मिले, तो भी सस्ता जान || “

व्याख्या – इस दोहे से हमें यह सिख मिलता है, यह शरीर विष (विष) से भरा है और गुरु अमृत की खान है। यदि आपको अपना सिर देने के बदले में सच्चा गुरु मिलता है, तो यह सौदा भी बहुत सस्ता है।

” कबीरा आप ठगाइये, और न ठगिये कोय।
आप ठगे सुख होत है, और ठगे दुःख होय।। “

व्याख्या – इस दोहे का अर्थ है कि अगर आपको ठगे दिया जाता है, तो कोई समस्या नहीं है। लेकिन किसी को ठगे देने की कोशिश मत करो। अगर आपको धोखा दिया जाता है, तो आप खुशी महसूस करते हैं क्योंकि आपने कोई अपराध नहीं किया है। लेकिन अगर आप किसी और को धोखा देते हैं, तो आप एक अपराध करते हैं जो केवल आपको दुखी करता है।

” बुरा जो देखन मैं चला, बुरा न मिलिया कोय ।
जो मन देखा आपना, मुझ से बुरा न कोय । “

व्याख्या – मैं अपना पूरा जीवन दूसरों की बुराइयों को देखने में बिता रहा हूं, लेकिन जब मैंने अपने दिमाग में देखा, तो मैंने पाया कि मेरे लिए इससे बुरा कोई व्यक्ति नहीं है। मैं सबसे ज्यादा स्वार्थी और दुष्ट हूं। हम दूसरों की बुराइयों को बहुत देखते हैं, लेकिन अगर आप अपने अंदर देखें, तो आप पाएंगे कि हमसे बुरा कोई व्यक्ति नहीं है।

” ऐसी वाणी बोलिए मन का आप खोये |
औरन को शीतल करे, आपहुं शीतल होए || “

व्याख्या – एक व्यक्ति को ऐसी भाषा बोलनी चाहिए जो सुनने वाले को बहुत अच्छी लगे। ऐसी भाषा न केवल दूसरे लोगों के लिए खुशी लाती है, बल्कि यह खुद को भी बहुत खुशी देती है।

” माटी कहे कुम्हार से, तू क्या रोंदे मोहे।
एक दिन ऐसा आएगा, मैं रौंदूंगी तोहे।। “

व्याख्या – मिट्टी कुम्हार से कहती है कि तुम मुझे क्या रौंदोगे, एक दिन ऐसा आएगा जब तुम भी इस मिट्टी में मिलोगे, तो मैं तुम्हें रौंद दूंगा। भावना यह है कि समय हमेशा समान नहीं होता है। किसी बात को लेकर घमंड न करें।

” मलिन आवत देख के, कलियन कहे पुकार ।
फूले फूले चुन लिए, कलि हमारी बार । “

व्याख्या – मालिन को आते देख बाग की कली आपस में बात करती है कि आज मालिन ने फूलों की लूट की और कल यह हमारी बारी होगी। वास्तव में, आज तुम युवा हो, कल तुम भी बूढ़े हो जाओगे और एक दिन तुम मिट्टी में मिल जाओगे। आज की कली कल फूल बन जाएगी।

पानी केरा बुदबुदा, अस मानस की जात |
देखत ही छुप जाएगा है, ज्यों सारा परभात || “

व्याख्या – मनुष्य की इच्छाएँ पानी के बुलबुले की तरह होती हैं जो एक क्षण में बन जाती हैं और एक क्षण में समाप्त हो जाती हैं। जिस दिन तुम सच्चे गुरु को देखोगे, उस दिन यह सारा मोह और सारा अंधेरा छिप जाएगा।

” जिन खोजा तिन पाइया, गहरे पानी पैठ,
मैं बपुरा बूडन डरा, रहा किनारे बैठ। “

व्याख्या – जो लोग लगातार प्रयास करते हैं, कड़ी मेहनत करते हैं, वे निश्चित रूप से कुछ न कुछ पाने में सफल होते हैं। जैसे कोई गोताखोर गहरे पानी में डुबकी लगाता है तो कुछ न कुछ जरूर लाता है, लेकिन जो डूबने के डर से किनारे पर बैठे हैं उन्हें जीवन भर कुछ नहीं मिलता।

Kabir Das

” दुर्बल को न सताइये, जाकी मोटी हाय।
बिना जीव के श्वास से, लोह भस्म हो जाये।। “

Kabir Das

व्याख्या – कमजोर व्यक्ति को कभी मत सताओ। क्योंकि कमजोर के पास बद्दुआ में बहुत शक्ति होती है जो किसी को भी नष्ट करने की शक्ति रखता है। जिस प्रकार निर्जीव त्वचा के साथ लोहे का सेवन किया जा सकता है।

” जल में बसे कमोदनी, चंदा बसे आकाश ।
जो है जा को भावना सो ताहि के पास । “

व्याख्या – कमल पानी में खिलता है और चंद्रमा आकाश में रहता है। लेकिन जब चंद्रमा की छवि पानी में चमकती है, तो कबीर दास जी कहते हैं कि कमल और चंद्रमा के बीच की दूरी के बावजूद, दोनों कितने करीब हैं। पानी में चंद्रमा का प्रतिबिंब ऐसा लगता है मानो चंद्रमा खुद कमल के पास आ गया हो। इसी तरह, जब कोई व्यक्ति भगवान से प्यार करता है, तो वे भगवान खुद उसके पास आते हैं।

” जब मैं था तब हरी नहीं, अब हरी है मैं नाही |
सब अँधियारा मिट गया, दीपक देखा माही || “

व्याख्या – जब मेरे अंदर अहंकार था, तब मेरे दिल में कोई हरि (भगवान) नहीं था। और अब मेरे दिल में हरि (भगवान) है, इसलिए मैं (अहंकार) नहीं हूं। जब से मैंने दीपक को एक गुरु के रूप में पाया, मेरे भीतर का अंधकार मिट गया।

” पोथी पढ़ पढ़ जग मुआ, पंडित भया न कोय।
ढाई आखर प्रेम का, पढ़े सो पंडित होय।। “

व्याख्या – किताबों को पढ़ने के बाद, दुनिया में कई लोग मारे गए हैं, लेकिन कोई भी पूरी तरह से जानकार नहीं बन पाया है। कबीरदास जी कहते हैं कि यदि कोई व्यक्ति प्रेम के ढाई अक्षर पढ़ सकता है, अर्थात प्रेम को समझ सकता है, तो वह सच्चा पंडित या विद्वान कहलाने के योग्य है।

” माखी गुड में गडी रहे, पंख रहे लिपटाए ।
हाथ मेल और सर धुनें, लालच बुरी बलाय । “

व्याख्या – मक्खी को पहले गुड़ से लिपटी रहती है। यह गुड़ के साथ अपने सभी पंखों और मुंह को चिपका देती है लेकिन जब यह उड़ने की कोशिश करता है तो यह उड़ने में असमर्थ होता है तो यह खेद महसूस करता है। उसी तरह, एक इंसान भी सांसारिक सुखों में लिपट जाता है और अंत में दुख महसूस करता है।

” ते दिन गए अकारथ ही, संगत भई न संग ।
प्रेम बिना पशु जीवन, भक्ति बिना भगवंत । “

व्याख्या – कबीर दास जी कहते हैं कि अब तक जो समय व्यतीत हुआ वह व्यर्थ गया, सज्जनों का साथ न दिया और न कोई शुभ कार्य किया। प्रेम और भक्ति के बिना मनुष्य पशु के समान है और भक्ति करने वाले के हृदय में भगवान वास करते हैं।

” कागा का को धन हरे, कोयल का को देय ।
मीठे वचन सुना के, जग अपना कर लेय । “

व्याख्या – कबीर दास जी कहते हैं कि कौआ किसी का पैसा नहीं चुराता लेकिन फिर भी लोग कौवा को पसंद नहीं करते। जबकि कोयल किसी को पैसे नहीं देती लेकिन सभी को पसंद आती है। ये है वाणी का अंतर – कोयल मीठी वाणी से सबका मन मोह लेती है।

Kabir Das अंतिम शब्द।

तो, आज के लिए बस इतना ही। उपरोक्त सभी (Kabir Das) / कबीर दास के दोहे पढ़ने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद। हमें खेद है कि इस पोस्ट में हमने सभी कबीर दास / Kabir Das के दोहे नहीं लिखी।

अगर आपको हमारी पोस्ट अच्छी लगी तो अपने दोस्तों और परिवार के साथ शेयर करें। अगर आप हमारे लिए लिखना चाहते हैं तो हमसे Contact Us Page पर संपर्क करें या नीचे Comment करें। प्रसिद्ध लोगों की प्रसिद्ध कविताएं, दोहे, उद्धरण पढ़ने के लिए, आप हमेशा हमारी website Famous Hindi Poems से जुड़े रहिए ।

Buy Kabir das Ji Ebooks –

Also, Read

Leave a Comment

Copy link
Powered by Social Snap